Sunday, 24 February 2008

डिब्‍बाबंद मुल्‍क, बड़ी होती लड़की और मातृत्‍व की उलझी छवियां -2

17-18 साल की उम्र में जब मैने पहली बार सिमोन द बोवुआर को पढ़ा और मातृत्‍व संबंधी उनके विचारों से दो-चार हुई, तो मेरी सोच में एक भयानक बवाल मचा। उम्र के उस पड़ाव पर पैदा हो रहे सहज बोध, सहज इच्‍छाओं और पढ़े हुए विचारों में ऐसी कुश्‍ती, धकमपेल मचती कि लगता दिमाग की नस ही फट जाएगी। जिंदगी के वो कुछ साल रिएक्‍शन के साल थे। वैसे भी हिंदी प्रदेश के लगभग निम्‍नवर्गीय परिवार से ताल्‍लुक रखने और प्रतापगढ़ी मर्दों की मर्दानगी का नमूना देखने के बाद सिमोन को पढ़कर कोई लड़की रिएक्‍शन में जीने लगे तो आश्‍चर्य नहीं। मर्दानगी भी ऐसी कि जो आए दिन बीवियों के शरीर पर जूते-चप्‍पल की शक्‍ल में नमूदार होती रहती, 50 पार आदमी की औरत भी 40 की उमर में नौवें या ग्‍यारहवें बच्‍चे की उम्‍मीद से होती। पता चलता, एक ही समय में माँ और बेटी, दोनों ही नाउम्‍मीद नहीं हैं। गांव में मुझे औरतों की जिंदगी बड़ी खौफनाक लगती थी। वैसा जीवन मेरे सिर आता तो मैं गांव के नजदीकी रेलवे स्‍टेशन से गुजरने वाली ऊंचाहार एक्‍सप्रेस के नीचे लेट जाना ज्‍यादा पसंद करती। मुझे लगता, ये औरतें क्‍यूं नहीं लेट जातीं। पति की लात और फूले हुए पेट से तो निजात मिलेगी।

जिंदगी के दरवाजे दस्‍तक देती जवानी और इंद्रिय-बोध के साथ लड़कों के मन और देह की दुनिया कैसे बदलती है, कुछ अंदाजा नहीं, लेकिन लड़कियों की दुनिया में बड़े अदेखे, रहस्‍यमय तूफान आते हैं। भीतर और बाहर की दुनिया प्रकाश की गति जैसी तेजी से बदलती है और कुछ समझ नहीं आता कि ये क्‍या हो रहा है। जिन लड़कों और चचेरे-ममेरे भाइयों के साथ हम अब तक जूतमपैजार में मुब्तिला रहते थे, अब अचानक उनसे भी कुछ शर्म-सी आने लगती है। भले अन्‍य बहनों के मुकाबले मुझमें लज्‍जाशीलता का यह पर्सन्‍टेज कुछ कम रहा था और तब भी मैं प्रेम-पत्र वाले खेलों के मुकाबले जूतमपैजार वाले खेल को लेकर ज्‍यादा एक्‍साइटेड रहती थी। बल्‍ला-गेंद या दूसरी किसी चीज को लेकर मैं भाई के साथ गुत्‍थम-गुत्‍था होती तो दादी अपनी चारपाई पर बैठे-बैठे ही बिफरतीं, ‘देख तनि इनकर दीदा, घोड़ी हस भइन अउर भाइयन से लिपटत-चिपटत रहत थिन, इनका तनकौ लाज नाही लागत।’

इस उम्र में पितृत्‍व की कोई भावना न जाने किसी लड़के के मन में कैसे आती है, आती भी है या नहीं, लेकिन किसी औरत का फूला हुआ पेट या नवजात शिशु को दूध पिलाती मां की छवियां दबे पांव लड़की की बदल रही दुनिया में अपनी जगह बना लेती हैं। कहीं, किसी कोने वो छवि छिपकर बैठी होती है और उम्र के तूफानों से अकेली जूझ रही लड़की के एकांत पाते ही पता नहीं कहां से धमक जाती है। हर सुबह लड़की हसरतों, सपनों, जिज्ञासाओं की ओस भीगी जमीन पर पांव रखती है। उमंगों की कोई डोर एक ओर खींचती है, तो अजाने भयों की डोर दूसरी ओर।

कई साल पहले, जब किसी रिश्‍तेदार की शादी में हमारा गांव जाना हुआ तो वहां बारात में आए लड़कों से आंखों-ही-आंखों में कुछ बातें और मुफ्त में मिले एकाध प्रणय-प्रस्‍ताव (शादी-ब्‍याह में ये बहुत ही आम बात है) के अलावा एक बात और हुई। एक लड़की, जो मुझसे कुछ बरस छोटी, लेकिन विवाहिता थी और पिता के घर का बासन-चूल्‍हा संभालते हुए पांच महीने बाद होने वाले अपने गौने का इंतजार कर रही थी, ने एक रात घर के पिछवाड़े छपड़े के नीचे एक ही चारपाई पर लेटे हुए मुझसे शादी के बाद के रहस्‍यों के बारे में कुछ सवाल किए। उसके हिसाब से मैं शहर की लड़की थी, और मोटी-मोटी किताबें पढ़ती थी। (दिन में मेरे हाथ में अन्‍ना कारेनिना का मोटा पहला भाग देखकर उसे मेरे विद्वान होने का यकीन हो चुका था।) तो जरूर इस जानिब मैं उसे कुछ भरोसे लायक जानकारी दे सकूंगी।

शहर की लड़की उसकी उम्‍मीदों पर खरी नहीं उतरी, लेकिन उसकी बेचैनी भरी जिज्ञासाएं बड़ी वाजिब थीं। घर में बड़ी बहन की जचगी देखे छमाहा भी न गुजरा था। गांव में कुंवारी लड़कियों को आमतौर पर ऐसे हौलनाक मंजरों से दूर ही रखा जाता है, लेकिन चूंकि उसकी मांग भरी थी, और बरस-दो बरस बाद यह हादसा उसके साथ भी पेश आना था, सो उसे किसी बहाने तिवरी की दुल्‍हन के यहां नहीं भेजा गया। कलेजे को चीर देने वाली वो डरावनी चीखें उसने सुनी थीं और बड़ा डरती थी कि मरद ऐसा क्‍या कर देते हैं, कि औरत को इतने खून के आंसू रोने पड़ते हैं।

खैर, उसका ये भरोसा टूटा तो टूटा ही सही, लेकिन सुबह वाली किताब की कहानी सुनकर उसका मुंह फटा की फटा रह गया। पति को छोड़कर दूसरा आदमी कर ली, ट्रेन के नीचे कट गई। कैसी औरत थी ये अन्‍ना। ऐसा करेगी तो कटेगी ही। उसका आदमी कुछ बोला नहीं। हमारे यहां होती तो जलता कंडा खींचकर मारते। गड़ासी से चीर देते, इंडारा में डुबो देते।

सीलबंद ढक्‍कन वाले डिब्‍बे जैसी दुनिया में रहती थीं लडकियाँ। डिब्‍बे में कोई आता-जाता तो था नहीं। एक मुई चींटी तक तो आती नहीं। अपने दिल की कहें भी तो किससे। सो डिब्‍बाबंद मुल्‍क की बड़ी होती लड़कियां अपने अकेलेपन को अकेले में ही गुनती-बुनती, अकेले ही जूझती रहतीं सबकुछ से।

मैं भी इसी डिब्‍बाबंद मुल्‍क की एक लड़की थी। बड़ी चाशनी घुली थी, जिंदगी में जवानी की तरंगों के आने से। चाशनी में सिमोन मार्का नारीवाद का छौंका भी लग गया। सब गड्डम-गड्ड।

24 comments:

आशीष said...

जारी रखें मनीषा

mamta said...

अच्छा और सधे शब्दों मे बेहतरीन लेखन।
अगली कड़ी की प्रतीक्षा रहेगी।

चंद्रभूषण said...

लड़की की कथा खूब कही। मुझे लगता रहा है कि मानव शरीर और दुनियादारी के मामले में शहरी लड़कियों की समझ गांव की लड़कियों से थोड़ी कम ही होती है। क्या यह गलत धारणा है?

यशवंत सिंह yashwant singh said...
This comment has been removed by a blog administrator.
Rohit Tripathi said...

acha likha aapne, shayad mai in muddo ko samajhne mein baudhik roop se thoda chota hu lekin phir bhi abhi tak jo bhi dekha yahi dekha ki har jimmmedari aurto par hi kyon, bachpan gaon main beeta aur gaon ki aurto ki dasha dekhkar sach mein aisa lagta tha ki woh log kabhi bhi dobara aurat banane ki nahi sochegi, shayad apne vichar theek se nahi rakh pa rha hu lekin aasha karta hu ki woh bhi seekh jauga. Rohit Tripathi


latest Post :Urgent vacancy for the post of Girl Friend…

मनीषा पांडेय said...

रोहित जी, आपकी टिप्‍पणी के लिए शुक्रिया। लेकिन आपसे विनम्र निवेदन है कि कृपया अपनी लेटेस्‍ट पोस्‍ट का लिंक बार-बार मेरे ब्‍लॉग पर न लगाएं।

Prafull said...

A flowing expression to your feelings & early life experiences.
wonderfully written.
Our early life creates the script that we live throughout. And sometimes its really curious--- how much it is open to the "Chance". Just a matter of an event or two & your whole life can change. Just like pip said in Great Expectations --- Even a moment, if it is there, and if it is not there, makes all the difference.
You are cordially invited to visit my blog & comment if you feel like (Because I am absolutely new in blogging & need some suggestions)-- http:\\thephilosophicalpoint.blogspot.com

सुजाता said...

मनीषा
बहुत सही जा रही हो । बहुत से सवाल चलते चलते खडे हो रहे हैं । और बहुत सहज भी हो । कल तुम्हारा पूरा ब्लॉग छाना । बहुत मज़ा आया ।

Parul said...

बढ़िया ! बाक़ी ये गड्डम-गड्ड वाली स्थिति शायद सभी लड़कियों के जीवन मे आती है ।
चंद्रभूषण जी की बात से थोड़ा-बहुत इत्तेफ़ाक़ मै भी रखती हूं कि गाँव की लड़कियाँ शहर वालियों से ज़्यादा और जल्दी समझदार हो जाती हैं

Manish said...

दोनों भाग पढ़े...एक अनछुए पर जरूरी विषय पर बहुत अच्छे तरीके से आपने अपनी बात कही है..

Mired Mirage said...

बहुत अच्छा लेख । किशोरावस्था में परिवार द्वारा इस उम्र के बदलावों को समझाने का यत्न और इसमें अच्छे लेखकों की पुस्तकें बहुत सहायता कर सकती है । यदि परिवार इस विषय को टैबू ना बनाये तो यह सब बड़े आराम से समझा व समाझाया जा सकता है ।
घुघूती बासूती

Rohit Tripathi said...

Theek hai manisha ji, kahe ko gussa ho rahi hai aap :-)

मनीषा पांडेय said...

चंदू, मैं भी आपकी बात से कुछ इत्‍तेफाक रखती हूं कि गांव की लड़कियां दुनियादारी और ऐसे सभी मामलों में शहरी लड़कियों से बीस ही होती हैं, उन्‍नीस नहीं। उस दिन उस लड़की के साथ हुई बातचीत ने भी कुछ यही सिद्ध किया था। शहर की लड़की उसके ज्ञान के आगे बैल डंबो साबित हुई।

पद्मनाभ मिश्र said...

वैसे पिछले दस सालों मे जो परिवर्तन भारत मे आया है वह उससे ५० सालों मे नही आया था. आज का समय है... आज गाँव की लड़कियाँ आई.आई.टी मे पढ़कर विदेश मे नौकरी करती हैं और अपनी पसन्द से शादी करती हैं और लोग कुछ भी नही बोलते और कुछ ऐसे भी लोग हैं जो सामन्तवादी ब्राह्मण का ढ़ीँडोरा पीटते पीटते वही विम बार के हवाले अपनी जिन्दगी को कर जाते है. दुनियाँ मे इतने तरह के लोग और सबका अपना पसन्द.

pushpa said...

kuch sawal poochna chahti hoon aapse.

kya aap feminist hain jo kafi log
kahlana pasand nahi karte?

kis tarah k feminism me believe karti hain?

India me womens movement ko kahan pati hain aap agar different feminism theories k perspective me analyse karen to?

i hope answers milenge mujhe.

Anonymous said...

namastay,
may manish choubey, gorakhpur say. kaya kahu aap nay bahut kuch wo likh dia joo log baat karnay say dartay hay...fir v avee bahut kuch haa bahut kuch bacha hay...........

राकेश त्रिपाठी said...

आप इलाहाबाद से पढ़ी हैं , जान कर अच्छा लगा। मैंने 1989 में विश्वविद्यालय छोड़ा...आप कब थीं वहां....
राकेश

Neelam said...

kya likhu samajh me nahi aa raha par ........sach me padh kar laga ki aap kitna sahi likhti hoo.....thanks

Madhukar said...

Manisha ji, Achha analysis hai. Par Ravish ji ko jarur thanks kah dena, unke hindustan me chape lekh ko padh kar bahut se visitor aaye hain aapke blog par. aapka zikra bade behtarin andaz me kiya un ne.

anubhav said...

namaste maneesha ji... nishchay hi aap jo kuch kah gayi hai aaj bhi use samaaj (adhik uchit hoga yadi kahu Pitra-sattatmak samaaj) ne varjit vishay hi bana rakha hai .. bhaav ek dum ubhar k saamne aa gaye hain .. mai padh raha tha to mujhe aisa lag raha tha ki maano ye saare kataaksh koi mere saamne baitha mujhi par kar raha hai .. aur kyu nahi is dasha ki liye hum bhi utne hi zimmedaar huye .. savaal gaon ya shaher ka nahi hai, savaal hai vyakti ki us soch ka jo bahar to aurat ko apne samkaksh kahta hai aur apne ghar me ghusne k baad use utna hi adhik prataadit karta hai ...maano chahta hai sara parivartan uski chaukhat k bahar hi bahar rahna chahiye

Anonymous said...

namastay kaya haal hay ..koi nayee rachna nahee likh rahay,,,,,,,

Anonymous said...

सब आपकी राह देख रहे हैं....

bhoothnath(नहीं भाई राजीव थेपडा) said...

सीमाओं दी बुवा को मैंने कोई १५ साल पहले पढ़ा था...........वैसा या उसके आस-पास भी फाटक सकने वाली चीज़ मैंने दुबारा कभी नहीं पढ़ी.......और आज आपने याद दिला दिया...धन्यवाद........!!

Anonymous said...

मनीषा जी काश आप सीमान ऑन दी बुवार की सेंकेंड सेक्‍स के साथ साथ महर्षि अरविंद की सावित्रि भी पढी होती तो नारी देह के मांसल सौंदर्य और यौन भूगोल की जगह वात्‍सल्‍य और ममत्‍व की अंतर्दृष्‍टि से भी आपका साक्षात्‍कार हो पाता। पाश्‍चात्‍य नारियों में भी शायद आपने हेलेन कीलर मदर टेरेसा, सिस्‍टर निवेदिता, श्री मां मैडम ब्‍लावेटेस्‍क्‍ी, मेडलिन स्‍लेट उर्फ मीरा बहन, एनिबेसेंट, जैसी मानवी के बारे अगर पढा होता तो नारी शक्ति के वृहतर स्‍वरूप का दर्शन कर पाती। लेकिन दुर्भाग्‍य ऐसा न हो सका और आप जैसी प्रतिभावान महिला पाश्‍चात्‍य साहित्‍य के खोखले छिछोरे और फैंटेसी से भरे हुए बियावान में भटकती रह गईं। अरे एक महत्‍तर प्रतिभा से भारतीय मनीषा वंचित रह गईं। शायद आपने गार्गी और मैत्रेयी सीता और मदालसा, कुंति, और द्रौपदी तथा अनुसुया और लोपामुद्रा के बारे में भी नहीं पढा है। अगर पढा होता तो स्‍त्री जाति की इन आदर्श प्रतिमाओं के माध्‍यम से आप स्‍त्रीत्‍व के विराट स्‍वरूप का दर्शन कर पाती और इनके सामने पुरूषों की क्षुद्रता का आपको अहसास हो पाता। केवल स्‍त्रियों के जांघ के भूगोल पर ही पुरूष नहीं मर मिटते हैं अगर ऐसा होता तो पुरूष शादी करने की बजाय वेश्‍याओं के कोठों पर ही जाना केवल पसंद करता। लेकिन ऐसा नहीं है। उसके लिए स्‍त्री का आत्‍मिक लालित्‍य करूणामय सौंदर्य, वात्‍सल्‍य पुरित भाव ही प्रधान होता है। ये सत्‍य है कि जैविक बनावटों के आधार पर आकर्षण भी इस परस्‍पर प्रेम का आयाम है लेकिन वह केवल एक पक्ष है जिसका दार्शनिक और जैविक आधार है। न कि एक पुरूष के लिए समग्र चिंतन का विषय। ये सच है कि कुछ पुरूष केवल वासना की गंदी नाली के बदबदाते हुए कीडें होते हैं लेकिन ये अपवाद हैं। पौरूष के प्रतीक नहीं। आशा है आप नारी और पुरूष की द्वैधता के एकात्‍मबोध की फिर से पडताल करेंगी और आपकी समस्‍या का समाधान भारतीय परंपरा जिसे दुर्भाग्‍य से मिथक कहा जाता है उसके अंदर ही मिल जाएगा। साथ ही ये भी विश्‍वास है कि मानव जीवन की एक दिशा भी मिल जाएगी। और आप अपने आत्‍मबोध से दूसरों का मार्गदर्शन कर प्रेरणा का स्‍त्रोत बन सकेंगी। लिखते वक्‍त भावनाओं की सरपट दौड के क्रम में अगर कुछ कटु शब्‍द लिख दिये गए हों तो उसके लिए माफ भी करेंगी।
आगे ये भी कहुंगा कि मार्क्‍सवादी दृष्‍टि से नारी जीवन को परखने के लिए आप जरा प्रख्‍यात मार्क्‍सवादी भाष्‍यकार रोजा लक्‍जेमबर्ग की जीवन का भी अध्‍ययन कर लीजिए शायद आपको उनमें भी नारी जीवन के लिए प्रकाश की लौ दिख जाए।
balyogi_jtv@yahoo.com