Thursday, 8 October 2009

जीवन तो यूं भी चलता रहता है


जानती हूं एक दिन
तुम यूं नहीं होगे मेरी जद में
एक दिन तुम पांव उठा अपनी राह लोगे
जीवन तब भी वैसा ही होगा
जैसा तब हुआ करता था
जब तुम छूते नहीं थे मुझे
वैसे ही उगेगा सूरज
बारिश की बूंदें भिगोएंगी तुम्‍हारे बाल
पेड़ों के झुरमुट में
अचानक खिल उठेगा
कोई बैंगनी फूल
गोधूलि में टिमटिमाएगी दिए की एक लौ
एक प्रिय बाट जोहेगी
अपने प्रेमी के लौटने की
तारे वैसे ही गुनगुनाएंगे विरह के गीत
लोग काम से घर लौटेंगे
मैं वैसी ही होऊंगी तब भी
बस मेरी पल्‍कों पर तुम्‍हारे होंठों की
छुअन नहीं होगी
चुंबनों से नहीं भीगेंगी मेरी आंखें
एक स्‍मृति बची रह जाएगी
झील के किनारे की एक रात
उन रातों की याद
वरना क्‍या है
जीवन तो फिर भी चलता ही रहता है

25 comments:

शाश्‍वत शेखर said...

Gahre ahsaas.

Udan Tashtari said...

बहुत सुन्दर!!

सच कहा-

वरना क्या है जीवन तो फिर भी चलता जाता है.

M VERMA said...

एहसास की बहुत सुन्दर कविता.
"वरना क्‍या है
जीवन तो फिर भी चलता ही रहता है"

निशांत मिश्र - Nishant Mishra said...

क्या बात है, एक के बाद एक धाँसू पोस्ट और बेहतरीन कवितायेँ!

पीछे जो भी था वो writers' block था या कुछ और?

raj said...

....

Kishore Choudhary said...

एक प्रिया बाट जोहेगी
अपने प्रेमी के लौटने की
तारे वैसे ही गुनगुनाएंगे विरह के गीत
लोग काम से घर लौटेंगे
मैं वैसी ही होऊंगी तब भी..



पूरी कविता ही सुंदर है किन्तु इन पंक्तियों में शास्वत प्रेम का उदबोधन है.

अनूप शुक्ल said...

मैं वैसी ही होऊंगी तब भी
बस मेरी पल्‍कों पर तुम्‍हारे होंठों की
छुअन नहीं होगी
चुंबनों से नहीं भीगेंगी मेरी आंखें


सबसे खास लगा। सुन्दर।

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

अच्छी कविता!

श्रीश पाठक 'प्रखर' said...

ओह, यादों से भीगा मेरा स्वयं का मन.....प्यारी रचना....बिलकुल छू लेने वाली..सच्ची..

mehek said...

kuch sunder ehsaas yaad ban jate hai,sunder.

अनिल कान्त : said...

एहसासों को शब्द बहुत बेहतरीन दिए हैं आपने
वाह !!

सागर said...

खुबसूरत! कविता बांधे रखती है
अलबत्ता इस तरह की कवितायेँ पहले भी पढ़ी हैं... फर्क इतना है की उनमें गोधूली, और बैंगनी फूल जैसे शब्द नहीं थे....

एक सुझाव भी आया था... सोचा दे दूँ... लेकिन फिर सोचा बेदखल का सुझाव हो जायेगा....

परमजीत बाली said...

बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना है।बधाई।

Priyankar said...

अच्छी कविता .

पर नाव में बैठते ही डूब का गीत गुनगुनाना कोई अच्छी बात है क्या ?

डॉ .अनुराग said...

सच कहा....कभी इसी ख्याल पे हमने भी त्रिवेणी लिखी थी .....

"जुदा होकर ख़ुश रहना ,अजीब सा लगता है
अलबत्ता दोनो मसरूफ़ है अपनी दुनिया मे.....

हां गाहे -बगाहे याद आ जाती हो अक्सर.

मनीषा पांडे said...

Sagar ji, sujhav de hi daliye...

शायदा said...

मनीषा बहुत अच्‍छा लिखा है, आगे भी ऐसा ही लिखती रहो।

सुशील कुमार छौक्कर said...

एक सच को जिदंगी के शब्दों से कह दिया। बहुत बेहतरीन।

anshul said...

.......adbhut.aur kya ho raha hai.....? anshul(allahabad)

मनीषा पांडे said...

Are you Anshul Tripathi from Allahabad. You were with Ravikant. Am I right? Send me a mail on manishafm@gmail.com.

rakesh said...

Kavita ka ek prabhav hota hai use khud me avtarit hote hue dekhna. Tumhari yeh kavita eise hi bhigo gai hai mujhe. Apne me eisa ras samahit ho to kaise koi pao badhakar nikal sakta hai???
Ek bhari-puri jheel sa hota hai man, ham use yaado ke sahare mapte hai. Aakhir kahi to milega thor??
Rishte ret ki manind nahi phisalte.. ve kabhi-kabhi rukte bhi hai, un thikano par jaha sukh ke ujale hai, aur hai yaado ki jhil-mil. Yeh jhil-mil hee jagati hai jeevan ki chahat.
To mabadolat Manisha ji, ese sanvarkar rakhen, Kya pata kab kambakht ki jarurat pad jaye..

Sudhir (सुधीर) said...

एक स्‍मृति बची रह जाएगी
झील के किनारे की एक रात
उन रातों की याद
वरना क्‍या है
जीवन तो फिर भी चलता ही रहता है


क्या अभिव्यक्ति है मनिषा जी...मन के किसी कोने को पकड कर बैठ सी गई हैं ये पन्क्तियां वाह!!

rakesh said...

What happened to the next Kavita????

प्रकाश बादल said...

वाह आज कल आप अच्छी फॉम में है मनीषा जी इसे बनाए रखि! अच्छी कविता के लिए बधाई !

rakesh said...

After abut two months I went through your KAVITA again and my comments on it. I am amazed to read my own words. I have written such heartfelt words afer ages and I think its your KAVITA`S affect.
KAVITA can make you feel and give words to express it. Thanks a lot.